Industria

शिव भक्तों के लिए अच्छी खबर, चोरी हुई प्रतिमा को जल्द लौटाएगा ब्रिटेन

राजस्थान

शिव भक्तों के लिए अच्छी खबर है. राजस्थान से 1998 में चोरी हुई प्रतिमा ब्रिटेन से वापस आने वाली है.

लंदन: शिव भक्तों के लिए अच्छी खबर है. राजस्थान से चोरी की गई भगवान शिव (Lord Shiva) की प्राचीन प्रतिमा ब्रिटेन (UK) से वापस लाने की तैयारी की जा रही है. 

9वीं शताब्दी के अंत में राजस्थान की ‘प्रतिहार’ शैली में बनाई गई 4 फुट ऊंची इस शिव प्रतिमा को 1998 में राजस्थान के बरौली के घाटेश्वर मंदिर से चुराया गया था. इसके बाद यह पता चला कि मूर्ति को तस्करी करके ब्रिटेन ले जाया गया है. भारतीय अधिकारियों ने इस बाबत ब्रिटेन को सूचित किया और एक निजी संग्रहकर्ता के पास से मूर्ति बरामद की गई. 

ब्रिटिश अधिकारियों और भारतीय अधिकारियों के संयुक्त प्रयासों के चलते  2005 में संग्रहकर्ता ने स्वेच्छा से प्रतिमा को लंदन स्थित भारतीय उच्चायोग को सौंप दिया था, तब से मूर्ति वहीं थी, जिसे अब वापस राजस्थान लाने का रास्ता साफ हो गया है.

2017 में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के अधिकारियों को मूर्ति का निरीक्षण करने के लिए आमंत्रित किया गया था. जिन्होंने पुष्टि करते हुए कहा था कि यह वही मूर्ति है जिसे राजस्थान के बरौली के मंदिर से चुराया गया था.   

पिछले कुछ वक्त में भारत सरकार तस्करी करके विदेशों ले जाई गईं कई बहुमूल्य कलाकृतियों को ट्रैक करके वापस लाने में सफल रही है. अब भगवान शिव की प्रतिमा भी सफलता की इस सूची में शामिल हो गई है. 2017 में वर्ल्ड हेरिटेज साइट रानी की वाव से चोरी हुई ब्रह्मा-ब्रह्माणी की मूर्ति भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण को वापस मिल गई थी. इस मूर्ति को चोरी करके लंदन ले जाया गया था. 

2018 में लंदन मेट्रोपॉलिटन पुलिस द्वारा भागवान बुद्ध की 12वीं शताब्दी की कांस्य प्रतिमा को भारतीय उच्चायुक्त को सौंपा गया. इसी तरह 15 अगस्त, 2019 को  भगवान कृष्ण की 17वीं शताब्दी की कांस्य प्रतिमा और दूसरी शताब्दी के चूना पत्थर के नक्काशीदार स्तंभ की आकृति को संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा भारत को लौटाया गया था. 

Related Articles

Close